पीयू की कुलपति ने की पौध भिक्षा की पहलभिक्षा में मिले पौधों की बनेगी नर्सरी

विश्वविद्यालय में हरियाली बढ़ाने का लिया गया संकल्प

जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. निर्मला एस. मौर्य ने विश्वविद्यालय में पौध भिक्षा की एक नई पहल की है। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर इसकी शुरुआत की गई है। उन्होंने कहा कि पौधा ही भविष्य में जनमानस की पूंजी है। इसे संभालने और संवारने की जरूरत है। विश्वविद्यालय में हरियाली बढ़ाने के संकल्प से इस बेस्ट प्रैक्टिस का आरंभ  किया जा रहा है। विश्वविद्यालय की कुलपति की पहल का सभी शिक्षकों, कर्मचारियों और अधिकारियों ने स्वागत किया है। उनका मानना है कि इंसान के दिलों तक पेड़, पौधों की खामोश भाषा पहुंचे और वह समझे कि बिन पेड़ जीवन सूना है। बुधवार को इस पहल को कुलपति के पूर्व निजी सचिव  डा. के.एस. तोमर ने की। उन्होंने दान में विश्वविद्यालय को पांच पौधे दिए और खुद कुलपति, शिक्षकगण और अधिकारियों के साथ एकलव्य स्टेडियम में पौधरोपण किया।


उन्होंने कहा कि वृक्ष धरा का भूषण है। यह लंबे समय तक चलने वाला उपहार है। हमारी कोशिश होगी कि हम अपने अतिथियों का सम्मान पौधदान करके करें। इसके लिए पौध भिक्षा अभियान चलाया जा रहा है। इससे संग्रहित पौध को विश्वविद्यालय में नर्सरी बनाकर रखा जाएगा। इसका मकसद अधिक से अधिक पौध लगाकर विश्वविद्यालय में हरियाली लाना और लोगों को जागरूक कर प्रेरित करना है। इससे ग्लोबल वॉर्मिंग के खतरे को कम करने, पर्यावरण को संतुलित रखने, हरियाली बढ़ाने के लिए यह अभियान चलाया जाएगा। इस कार्य से वातावरण के तापमान में बदलाव आएगा l उनका मानना है कि पौधरोपण वाले पौधे को गोद देकर उसकी पूरी जिम्मेदारी उसे गोद लेने वाले को दी जाएगी, ताकि पौधा सुरक्षित रह सके।
इस अवसर पर कुलसचिव महेंद्र कुमार, वित्त अधिकारी संजय कुमार राय, परीक्षा नियंत्रक वीएन सिंह. उपकुलसचिव अमृतलाल, सहायक कुलसचिव अजीत सिंह, बबिता सिंह, प्रो. मानस पांडेय, प्रो. रजनीश भास्कर, डा. सुनील कुमार, सत्यम उपाध्याय, डा. लक्ष्मी प्रसाद मौर्य, डा. मदनमोहन भट्ट, डा. राजेश सिंह, डा. पी.के कौशिक आदि उपस्थित थे।

Comments

Popular posts from this blog

जौनपुर में चुनावी तापमान बढ़ाने आ रहे है सपा भाजपा और बसपा के ये नेतागण, जाने सभी का कार्यक्रम

अटाला मस्जिद का मुद्दा भी अब पहुंचा न्यायालय की चौखट पर,अटाला माता का मन्दिर बताते हुए परिवाद हुआ दाखिल

मछलीशहर (सु) लोकसभा में सवर्ण मतदाताओ की नाराजगी भाजपा के लिए बनी बड़ी समस्या,क्या होगा परिणाम?