उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी में जौनपुर को तरजीह,धर्मेन्द्र निषाद बने प्रदेश सचिव, कांग्रेस जनों ने दी बधाई




जौनपुर। प्रदेश में कांग्रेस को मजबूत बनाने में जुटी कांग्रेस अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी के अनुमोदन पर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के संगठन सचिव केसी वेणुगोपाल के द्वारा उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी का विस्तार किया गया जिसमें जनपद जौनपुर को तरजीह देते हुए पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ता धर्मेंद्र निषाद को प्रदेश  सचिव की जिम्मेदारी दी गई। 
 उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने जो विश्वास व्यक्त किया है कि  धर्मेंद्र निषाद की नियुक्ति से संगठन को मजबूती मिलेगी धर्मेंद्र निषाद ने कांग्रेस की राजनीति में पिछड़ा कांग्रेस के विभिन्न पदों पर रहते हुए पिछड़ों की आवाज बनने का काम किया जिला कांग्रेस कमेटी के कोषाध्यक्ष के पद पर रहे है उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के किसान संगठन में धर्मेंद्र निषाद को प्रदेश का उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी दी और अब उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी उन्हें उन्हें सचिव की जिम्मेदारी देकर के जौनपुर का प्रतिनिधित्व देने का काम किया धर्मेंद्र निषाद को जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष फैसल हसन तबरेज ने बधाई दी और शीर्ष नेतृत्व का आभार व्यक्त किया बधाई देने वालों में सर्वश्री सुरेंद्र विक्रम वीर बहादुर सिंह बाबा राकेश उपाध्याय उस्मान अली हीरालाल पाल नीरज राय अजय सोनकर राकेश सिंह डब्बू राजकुमार निषाद कलिंदर बिंद संदीप सोनकर विशाल सिंह हुकुम अनिल सोनकर तौकीर खान शैलेंद्र सिंह राज कुमार गुप्ता राजकुमार मौर्य प्रमोद निषाद राजीव निषाद सतीश यादव चंद्रजीत गुप्ता बब्लू गुप्ता हाशिम अली राकेश मिश्रा आजम जैदी डॉक्टर आर सी पांडेय अमित तिवारी अशोक साहू महमूद अंसारी डॉ प्रमोद सिंह डॉ प्रभात विक्रम सिंह डॉ सन्तोष गिरी विजय प्रताप सिंह अंकित राय तालुकदार दुबे नन्द लाल गौतम आनंद सेठ दिवाकर निषाद सहित कांग्रेस जनों ने धर्मेंद्र निषाद की नियुक्ति पर बधाई दी वशिष्ठ नेतृत्व का आभार व्यक्त किया।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक

पूर्वांचल की राजनीति का एक किला आज और ढहा, सुखदेव राजभर का हुआ निधन