मच्छर जनित बीमारी से बचाने के लिए 22 नवम्बर से चलेगा अभियान,जनपद में 156 डेंगू मरीज- सीएमओ



जौनपुर। फाइलेरिया एक प्रकार के कृमि परजीवी द्वारा होने वाली बीमारी है। यह मादा क्यूलेक्स मच्छर के काटने से फैलता है। यह हाथ-पैर, स्तन या अण्डकोश के सूजन (हाइड्रोसील) आदि के रूप में दिखायी देता है। भारत सरकार के विशेषज्ञों का मानना हैं कि आयु वर्ग के अनुरूप वर्ष में एक बार पांच वर्षो तक फाइलेरिया की दवा (डी0ई0सी0) का सेवन करने से फाइलेरिया रोग नहीं होता है। 
सीएमओ डा जीएसबी लक्ष्मी ने मीडिया से रूबरू होते हुए इस आशय की जानकारी देते बताया कि इससे बचाव के जनपद में वर्ष 2004 से चलाया जा रहा हैं। विगत वर्षो की भांति इस वर्ष भी जनपद में 22 नवम्बर 2021 से 07 दिसम्बर 2021 तक मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन कार्यक्रम (एम0डी0ए0) चलाया जा रहा है। कार्यक्रम के अन्तर्गत दवा खाली पेट नहीं खाना हैं। 02 वर्ष से कम उम्र के बच्चे, गर्भवती महिलायें एवं अत्यधिक बीमार लोगों को दवा नहीं खाना हैं। कार्यक्रम के अन्तर्गत 01 टीम (दो सदस्यीय) द्वारा प्रतिदिन 125 लाभार्थियों को घर-घर जाकर अपने सामने दवा खिलाया जायेगा। कार्यक्रम सप्ताह के 04 दिनों सोमवार, मंगलवार, बुधवार, बृहस्पतिवार को प्रातः 11 बजे से सायं 04 बजे तक चलेगा एवं छूटे हुए लोगों को दवा खिलाने हेतु मॉप-अप सप्ताह के शेष 02 दिनों में किया जायेगा। डी0ई0सी0 गोली की आयु वर्ग अनुसार निर्धारित मात्रा - 0-5 के आयु वर्ग के लिए डी0ई0सी0 खुराक 100 मि0ग्रा0, गोलियों की मात्रा 1 गोली, एलबेन्डाजाल (400मि0ग्रा0) 1 गोली, 5-15 वर्ष के आयु वर्ग के व्यक्तियों को डी0ई0सी0 खुराक 200 मि0ग्रा0, गोलियों की मात्रा 2 गोली, एलबेन्डाजाल (400मि0ग्रा0) 1 गोली, 15 एवं अधिक वर्ग के व्यक्तियों को डी0ई0सी0 खुराक 300 मि0ग्रा0, गोलियों की मात्रा 3 गोली, एलबेन्डाजाल (400मि0ग्रा0) 1 गोली दी जायेगी।
उक्त अवसर पर जिला मलेरिया अधिकारी ने अवगत कराया है कि वर्तमान समय मच्छरजनित बीमारियों यथा डेंगू, मलेरिया, फाइलेरिया, जे0ई0 इत्यादि एवं जलजनित बीमारियों जैसे गैस्ट्रो, पीलिया, टाइफाइड, स्क्रब टाइफस के संचरण का अनुकूल वातावरणीय समय है। बीमारी के प्रसार से पूर्व अवश्यक है कि उससे सम्बन्धित गतिविधियॉ सम्पन्न करायी जा रही है। उन्होंने अवगत कराया है कि बीमारी को सीमित करने के लिए कार्य किया जा रहा है। डेंगू नियन्त्रण हेतु तैयारी/कार्यवाही की जा रही है जनपद जौनपुर में रोगों का विवरण- डेंगू 156, मलेरिया 10, स्क्रब टाइफस 08, फाइलेरिया 02 है।  
उन्होंने बताया कि अबतक कुल 310 डेंगू संभावित रोगियों (एनएस1 प्लस वीई) का सैम्पल डेंगू की पुष्टि हेतु बी0एच0यू0 भेजा जा चुका है, जिसमें से 299 सैम्पल का परिणाम प्राप्त हो गया है। जनपद में अबतक कुल 156 डेंगू के पुष्ट रोगी चिन्हित हुए हैं। बीमारी के रोकथाम हेतु ग्रामीण स्तर पर पंचायतीराज विभाग द्वारा एवं नगरीय क्षेत्र में नगरपालिकाओं के माध्यम से फागिंग, लार्वीसाइडल स्प्रे नियमित रूप से कराया जा रहा है। जौनपुर अर्बन क्षेत्र में कुल 10 डोमेस्टिक ब्रीडिंग चेकर्स के माध्यम से मच्छरों के प्रजनन स्रोतों का विनष्टीकरण कराया जा रहा है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीईटी साल्वर गिरोह का हुआ भन्डाफोड़, दो गिरफ्तार,एक जौनपुर दूसरा सोनभद्र का निकला

जौनपुर में तैनात दुष्कर्म के आरोपी पुलिस इन्सपेक्टर की सेवा हुई समाप्त, जानें क्या है घटना क्रम

प्रेम प्रपंच में युवकों की जमकर पिटाई, प्रेमी की इलाज के दौरान मौत तो दूसरा साथी गंभीर