पूर्वांचल के रास्ते यूपी में जानें कब प्रवेश कर सकता है मानसून, भीषण गर्मी से मिलेगी निजात


भीषण गर्मी में गर्म मौसम की मार इन दिनों जोरों पर है। भीषण गर्मी और उमस के बीच दिन में चलने वाली हवा भी मानो आंच और तपिश के साथ चल रही हो। मगर, इन सभी चुनौतियों के बीच राहत की बात यह है कि बहु प्रतीक्षित मानसून ने देश में अंडमान निकोबार द्वीप समूह में सक्रियता के साथ अपनी दस्तक दे दी है। इस लिहाज से देश में मानसून ने इस बार करीब सप्ताह भर पहले ही दस्तक दे दी है। 


सोमवार को मानसून की अक्षीय रेखा अंडमान निकोबार द्वीप समूह से होकर गुजरती नजर आई। अंडमान निकोबार द्वीप समूह में मानसूनी बादलों ने आखिरकार दस्तक दी तो उत्तर भारत के लोगों ने खूब राहत की सांस ली है। दरसल नई दिल्ली तक में तापमान 49 डिग्री तक सोमवार को जा पहुंचा था। ऐसे में मानसून और देर होता तो दुश्वारी बढ़ना तय था। सोमवार को आखिरकार मानसून ने दस्तक दे दी है। माना जा रहा है कि अब जल्द ही समुद्र तटीय इलाकों तक इसका असर पहुंच जाएगा। इसके बाद यह मैदानी इलाकों में जून में सक्रिय हो जाएगा।


बीते वर्ष 13 जून को सोनभद्र के रास्ते मानसून ने पूर्वांचल में दस्तक दी थी और लखनऊ तक मानसूनी बादलों की सक्रियता एक दिन में हो गई थी। इस बार मानसून छह दिन पहले ही आ चुका है, ऐसे में मानसून की सक्रियता इसी प्रकार बनी रही तो 12-15 जून के बीच मानसून पूर्वांचल में सक्रिय हो जाएगा। किसी कारणवश अगर देरी भी हुई तो 16-20 जून तक मानसूनी सक्रियता का दौर पूर्वी उत्तर प्रदेश में नजर आने लगेगा। मौसम विभाग ने हालांकि अनुमानों के अनुसार 20 जून को पूर्वांचल में मानसूनी सक्रियता का अंदेशा जताया है। ऐसे में अगले 25 दिनों के बाद मानसूनी सक्रियता पूर्वांचल में हो सकती है। इसके बाद बादल भी बनेंगे और बूंदाबांदी भी खूब होगी।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी

खुशखबरी: बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग में मुख्य सेविका पद पर होगी भर्ती,जानें कौन कर सकेगा आवेदन