महाधिवक्ता भवन में भीषण आगजनी, कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू, कारण की तलाशा जारी


प्रयागराज में रविवार की सुबह आगजनी की घटना हुई। इलाहाबाद हाई कोर्ट के निकट महाधिवक्‍ता भवन में आग लगी। महाधिवक्‍ता भवन की सातवीं और आठवीं मंजिल में अचानक आग लग गई। आनन-फानन में पुलिस के साथ ही वहां दमकल की गाड़ी पहुंची। फायर ब्रिगेड कर्मी आग बुझाने का प्रयास किया। आग बुझाने के प्रयास में फायर ब्रिगेड के दो कर्मियों का हाथ झुलस गया है। प्रशासन व पुलिस के तमाम अधिकारी भी पहुंच गए थे।
उल्‍लेखनीय है कि इलाहाबाद हाई कोर्ट के निकट कार्यालय महाधिवक्‍ता उप्र उच्‍च न्‍यायालय इलाहाबाद स्थित है। महाधिवक्ता भवन है का नाम बाबा साहब डाक्‍टर भीमराव अंबेडकर भवन है। रविवार की सुबह उधर से जा रहे कुछ लोगों ने महाधिवक्‍ता भवन की सातवीं और आठवीं मंजिल से धुआं निकलते देखा। कुछ ही देर में आग की लपटें भी दिखीं तो लोगों ने पुलिस और फायर ब्रिगेड को सूचित किया। कुछ ही देर में वहां पुलिस पहुंची और इलाके को चारों ओर से घेर लिया। इसी बीच दमकल की गाड़ी भी पहुंची।
वीआइपी भवन होने के कारण इलाहाबाद हाई कोर्ट के महाधिवक्‍ता कार्यालय भवन पर प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों का जमघट है। उधर जाने वाले रास्‍ते पर आवागमन रोक दिया गया है। पीएसी और आरएएफ भी पहुंच गई है। आग बुझाने के लिए करीब दो दर्जन दमकल की गाड़ियां लगी। निकट के फ्लाई ओवर पर भी दमकल की गाड़ियां लगायी गयी। वहां से भी पानी का फव्‍वारा से आग बुझाने का प्रयास किया गया है।
फायर ब्रिगेड कर्मी आनन-फानन में आग बुझाने में जुट गए। आग बुझाने के प्रयास में फायर ब्रिगेड के दो  कर्मचारियों का हाथ झुलस गया। अमित यादव व पवनेश यादव का हाथ झुलसा है। दोनों कर्मचारी आग बुझाने के लिए भवन की खिड़की के शीशे तोड़ रहे थे, इसी दौरान जख्‍मी हुए हैं।
जानकारी होने पर डीएम, एडीजी, एसपी सिटी समेत तमाम प्रशासनिक व पुलिस अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए हैं। आग किस कारण लगी इसका अभी पता नहीं चल सका है। बताया जा रहा है कि महाधिवक्‍ता भवन के जिस सातवीं और आठवीं मंजिल पर आग लगी, वहां फाइलें रखी जाती हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर रात एक छात्रा को बंगले पर भेजो'SDM पर महिला हॉस्टल की अधीक्षीका ने लगाया 'गंदी डिमांड का आरोप; अधिकारी ने दी सफाई

यूपी कैबिनेट की बैठक में जौनपुर की इस नगर पालिका के विस्तार का प्रस्ताव स्वीकृत

जफराबाद विधायक का खतरे से बाहर डाॅ गणेश सेठ का सफल प्रयास, लगा पेस मेकर