आपरेशन में जानें कैसे और कितना जोखिम उठा कर मरीज की जान बचाते है डाॅ एल बी सिद्धार्थ


 

जौनपुर।  सिद्धार्थ अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक सर्जन डॉ लाल बहादुर सिद्धार्थ आपरेशन के मामले में मरीजो को जीवन प्रदान करने के लिए अक्सर जोखिम मोल लेते हुए सफलता हांसिल करते है। ऐसे मरीजों की जान बचाते है जो वाराणसी और लखनऊ से निराश होकर वापस लौट जाते है। 
जी हां अभी हाल ही में एक सड़क दुर्घटना में घायल एक 20 वर्षीय युवक का 06 ग्राम ब्लड होने की दशा में आपरेशन कर उसकी जान बचा लिया है। बता दें युवक सचिन निवासी भढ़ेरी केराकत का एक सड़क दुर्घटना में गम्भीर रूप से घायल हो गया था परिजन पहले वाराणसी स्थित अस्पताल में ले गये वहां पर चिकित्सक द्वारा जबाब दिये जाने के बाद घायल को सिद्धार्थ अस्पताल जौनपुर लाया गया।
डाक्टर सिद्धार्थ ने मरीज की जांच कर आपरेशन किया और आज मरीज ठीक होकर अपने घर गया है डाक्टर के अनुसार दुर्घटना के चलते मरीज का लीवर और तिल्ली फट गया था जिसके कारण अधिक रक्तस्राव हो रहा धा। ब्लड घट कर 06 प्वाइंट पर आ गया था लेकिन जान बचाने के लिए आपरेशन जरूरी हो गया था अब मरीज ठीक है। 
मरीज के पिता नन्हकू सरोज ने कहा कि डाक्टर सिद्धार्थ तो हमारे लिये भगवान बन गये और उपचार के खर्च में हम गरीब की खासी मदत किये है। नन्हकू के अनुसार अस्पताल के पूरे खर्च की बिल 1.03  लाख रुपए हुई थी लेकिन चिकित्सक ने मुझसे मात्र 50 हजार रुपए लिये और धनराशि माफ कर हमारे परिवार पर कभी खत्म न होने वाला उपकार किया है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

स्वागत कार्यक्रम में सपाईयों के बीच मारपीट की घटना से सपा की हो रही किरकिरी

हलाला के नाम पर मुस्लिम महिला के साथ सामुहिक दुष्कर्म, मुकदमा दर्ज मौलाना फरार

मारपीट की घटना को विधायक एवं उनके समर्थको पर लूट तक का मुकदमा हुआ दर्ज