जौनपुर प्रेस क्लब में 25 अक्टूबर को होने वाले सेमिनार की बनी रूप रेखा, ये तीन बने नये पदाधिकारी


 तीन सदस्यों को मिली नयी जिम्मेदारी राकेश बने वरिष्ठ उपाध्यक्ष तो मेंहदी उपाध्यक्ष, कमल को तहसील मछलीशहर के अध्यक्ष 

जौनपुर। जौनपुर प्रेस क्लब की आज एक बैठक जिलाध्यक्ष  कपिल देव मौर्य की अध्यक्षता में हुई। जिसमे आगामी 25 अक्टूबर 2 को होने वाले सेमिनार के बिषय में चर्चा किया गया साथ तहसील मछलीशहर के अध्यक्ष पद एवं जिला कमेंटी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष तथा उपाध्यक्ष पद के लिए तीन सदस्यों को सर्वसम्मत से मनोनीत किया गया। अन्त में लखीमपुर में किसान आन्दोलन के समय मारे गये पत्रकार के प्रति शोक संवेदना व्यक्त किया गया। 
बैठक में वक्ताओ ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कार्यक्रम के अतिथियों के चयन पर अपनी मुहर लगाते हुए कहा कि जौनपुर प्रेस क्लब ने  "हिन्दी में पत्रकारिता का वर्तमान स्वरूप " एक सारगर्भित बिषय पर सेमिनार आयोजित किया जो सराहनीय है। कार्यक्रम की रूप रेखा पर चर्चा किया गया। इसके पश्चात महामंत्री के प्रस्ताव पर वरिष्ठ पत्रकार राकेश कान्त पान्डेय को वरिष्ठ उपाध्यक्ष एवं मेंहदी हसन सामिन को उपाध्यक्ष मनोनीत किया गया। साथ ही मछलीशहर तहसील के अध्यक्ष पद पर कमल कुमार मौर्य को चयनित करते हुए पूरी कमेटी गठित करने की जिम्मेदारी दी गयी है।
बैठक में राकेश कान्त पान्डेय, केदार नाथ सिंह, अब्दुल हक अंसारी, अजय प्रताप  पाल, मेंहदी हसन, अवधेश तिवारी आदि पत्रकारों ने अपने सुझाव दिये। बैठक कार्यक्रम के अन्त में लखीमपुर में पत्रकार के हत्या की निन्दा किया गया और मृतक के परिवार को नौकरी और एक करोड़ रुपए सहायता की मांग सरकार से किया गया। 
बैठक में राकेश कान्त पान्डेय, फूलचंद यादव, अजय प्रताप पाल, दीपक सिंह रिंकू, शशिकान्त मौर्य, सुनील मिश्रा, चन्द्र सेन शुक्ला, छोटेलाल राजपूत, कमलेश मौर्य, लल्लन मौर्य, सुनील वर्मा, अमित शर्मा, मंगला प्रसाद तिवारी, लक्ष्मी नारायन यादव  ,अवधेश तिवारी, केदार नाथ सिंह, अब्दुल हक अंसारी, सुशील स्वामी,कमल कुमार, श्री प्रकाश वर्मा आदि बड़ी संख्या में पत्रकार गण उपस्थित रहे। संचालन महामंत्री शम्भुनाथ सिंह ने किया 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक

पूर्वांचल की राजनीति का एक किला आज और ढहा, सुखदेव राजभर का हुआ निधन