एक लाख के इनामी आईपीएस मणिलाल पाटीदार ने किया सरेंडर, पुलिस को थी 2 साल से तलाश


महोबा में खनन व्यापारी की मौत के मामले में फरार चल रहे आईपीएस अधिकारी मणिलाल पाटीदार ने सरेंडर कर दिया है. बीते दो साल से यूपी पुलिस को आईपीएस अफसर की तलाश थी. पाटीदार पर एक लाख रुपए का इनाम भी घोषित था. अब उन्हें 14 दिन की ज्यूडिशियल कस्टडी में भेजा दिया गया है. 
2014 बैच के आईपीएस अफसर मणिलाल पाटीदार ने आखिरकार शनिवार को लखनऊ की एंटी करप्शन कोर्ट में सरेंडर कर दिया. लगभग दो सालों से फरार चल रहे मणिलाल पाटीदार की बर्खास्तगी के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने केंद्र को सिफारिश की थी. उनके महोबा एसपी रहने के दौरान खनन व्यापारी इंद्रकांत त्रिपाठी ने वसूली के आरोपी लगाए थे. जिसके बाद उन्हें वसूली के लिए प्रताड़ित किए जाने के आरोप के चलते सस्पेंड भी किया गया था.
8 सितंबर 2020 को महोबा के करवई थाना इलाके के व्यापारी इंद्रकांत त्रिपाठी ने तत्कालीन महोबा एसपी मणिलाल पाटीदार के खिलाफ एक सोशल मीडिया पोस्ट डाली थी. जिसमें पाटीदार पर वसूली के लिए प्रताड़ित किए जाने के आरोप लगाए गए थे. पोस्ट डालने के बाद की तारीख में ही इंद्रकांत पर फायरिंग हो गई.
घटना में घायल इंद्रकांत को महोबा जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था. यहां से कानपुर रेफर किया गया था. कानपुर में इलाज के दौरान 13 सितंबर को इंद्रकांत की मौत हो गई थी. उसकी मौत के बाद परिजनों की तरफ से पाटीदार पर इल्जाम लगाए गए थे. इंद्रकांत के भाई रविकांत त्रिपाठी ने 11 सितंबर 2020 की शाम थाना कबरई में पाटीदार के खिलाफ एफआईआई दर्ज करवाई थी.
इस FIR में तत्कालीन महोबा एसपी मणिलाल पाटीदार पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए गए थे. शिकायत में लिखा गया कि चंद्रकांत त्रिपाठी क्रेशर चलाते हैं और जून, 2020 से एसपी मणिलाल पाटीदार उनसे हर महीने 6 लाख रुपये की रिश्वत की डिमांड कर रहे हैं, लेकिन ये रिश्वत देने से इनकार कर दिया गया. इसके बाद एसपी मणिलाल ने अपने सहयोगी पुलिसकर्मियों के साथ मिलकर चंद्रकांत त्रिपाठी को धमकियां देनी शुरू कर दी थीं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पुलिस मुठभेड़ में मारे गए बदमाशो का शव उनके पिता ने लेने से किया इनकार जानें कारण

गुरूजी को अपनी छात्रा से लगा प्रेम रोग तो अब पहुंच गए सलाखों के पीछे,थाने में हुआ एफआइआर दर्ज

पुलिस मुठभेड़ में दो सगे भाई बदमाश मारे गये एक फरार जिसकी तलाश जारी है